आखिरी बार लिख रहा हूँ... ( अगली प्रस्तुति :- 27.08.11)

google image
रसों से लिखा करते थे
जब भी बादल घिरते थे
चाँद शबाब पर हुआ करता था 
तारे जब दिखा करते थे

लिखा करते थे कहने
अपने दिलों की बातें
और जानने को तेरे इरादे

वक्त वो भी आया, चिट्ठियों में..
तुमने सब क़ुबूल किया
बंधे गाँठ सब खोल दिए
जो जुबां न कह पाए  कभी
तुने कागजों में बोल दिए
अब लिखने की कोई वजह नहीं
फिर भी लिखता हूँ..

यकीं जो न आया तुझपर
देखा है कई बार
तुझे  इनायतों के इंतिजार में,
मगर  खुद को ही समझाया किये अक्सर

फर्क तो तब जाना
तुझमें और तेरे लिखे पर
किसी और को लिखा ख़त
तेरे नाम से
मेरे आँगन आई जो उड़कर
लिखे तेरे हरेक अक्षर
चुभने लगे जैसे नश्तर

मुझे पता नहीं, मैं आज बेवजह...
क्या बेकार लिख रहा हूँ
एक मुश्किल तब हुई थी
जब तुझे पहली बार लिखा था
एक मशक्कत अब है, जब...
आखिरी बार लिख रहा हूँ...  

10 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

वक्त वो भी आया, चिट्ठियों में..
तुमने सब क़ुबूल किया
बंधे गाँठ सब खोल दिए
जो जुबां न कह पाए कभी
तुने कागजों में बोल दिए
अब लिखने की कोई वजह नहीं
फिर भी लिखता हूँ..
kahta jata hun, bandhe kuch gaanth hain , kholna chahta hun

सतीश सक्सेना ने कहा…

बड़ी अच्छी लगी आपकी यह अभिव्यक्ति !
यह जन्माष्टमी देश के लिए और आपको शुभ हो !

Prakash Jain ने कहा…

Bahut khub Anilji...

ek sujhav:

चाँद शबाब पर हुआ करती थी

upyukt panktiyon mein Karti thi ke sthan par KARTA THA ka prayoog jyada uchit rahega, mere khayal se...vichar karein

www.poetricprakash.com

Kunwar Kusumesh ने कहा…

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें.

Roshi ने कहा…

bahut hi sunder likha hai aapne........

Kailash C Sharma ने कहा…

एक मुश्किल तब हुई थी
जब तुझे पहली बार लिखा था
एक मशक्कत अब है, जब...
आखिरी बार लिख रहा हूँ...

बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति..

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

यूँ तो हर लफ्ज़ तुझे याद कर लिख रहा हूँ.....
कागज पे तुझे ढूंढता हूँ पर खुद दिख रहा हूँ......

प्रतीक माहेश्वरी ने कहा…

वाह वाह! अंतिम पंक्तियाँ तो बेहद ही खूबसूरत थीं..

उर की विह्वलता ने कहा…

एक मुश्किल तब हुई थी
जब तुझे पहली बार लिखा था
एक मशक्कत अब है, जब...
आखिरी बार लिख रहा हूँ...

kya baat hai..ummda abhivyakti..

sm ने कहा…

आखिरी बार लिख रहा हूँ
बड़ी अच्छी लगी आपकी यह अभिव्यक्ति