पूछ ले अपने दिल से....

गूगल इमेज 
की थी मोहब्बत तो क्या खता की  ?
मेरी जिंदगी मुझको तो इतना बता भी...
एक बेकसूर दिल को क्यूँ राहत दी तुमने,
और फिर उसे ही क्यूकर सजा दी ?

इश्क वो आग है, दहकती ही जाये
जलने वाले खुद ब खुद जलें इश्क में
कोई कहाँ रोक पाए... 
मेरे दिल, दीवाने दिल को
धड़कना तो था ही
फिर जालिम प्रेम - अगन को
क्यूँ तूने हवा दी ?

भूलना ही था, फिर अपना बनाया क्यूँ ?
दिल को मेरे, दिल में  तेरे
क्यूँ मौका दिया घर बनाने का
मेरे ख्वाबों को अपने वादों से  सजाया क्यूँ ?
सोच ले ....बेवफा मुझको कहने से  पहले
पूछ ले ...अपने दिल से, क्या तूने वफ़ा की ...?



   

2 टिप्‍पणियां:

S.VIKRAM ने कहा…

सुंदर रचना....धन्यवाद...:)

Anil Kumar ने कहा…

Dhanyawaad S.Vikram Bhai....