अब आये हो ...!


अब आये हो ..!..
काका और फूफा भी ..
क्यूँ आये हो..?
-----------------------
साभार : गूगल चित्र
अच्छा.. अब समझा
तुम्हें तो आना ही था
मूक मान्यता जो है हमारे मजहब में
जीते जी ना मिलो
मय्यत पे जरूर शामिल होना...
______________
खैर, आये हो तो ठीक है
थोडा तुम भी रो लो
मेरे तो आंसू सुख गए रोते-रोते
कल ही दम तोडा है मां ने
देखो न कितने कम आंसू
बचे थे मेरी आँखों में
कि आज रस्म निभाने को भी
आंसूं नहीं बचे
तुम्हारे तो बहुत आंसू
आ सकते हैं आँखों से - रो..लो..
______________
अरे..हाँ.. भूल गया..
कल ही तो जिक्र किया था मां ने तुम्हारा
बोल रही थी - बड़ी मुश्किलों में रहता है वो
देखने की भी फुर्सत
नहीं मिलती उसे..
______________
उसे क्या मालूम था -
आज के दिन के लिए
तूने वर्षों से छुट्टी ले रखी थी..
सिर्फ माँ के तड़प-तड़प कर
जीवित रहने तक ही
फुर्सत को तुम्हारे लिए
फुर्सत ना थी..

7 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

निःशब्द कर गए भाव

siyaraman ने कहा…

गहरी पीड़ा !

Anil Kumar ने कहा…

बहुत-बहुत शुक्रिया रश्मि प्रभा जी.. आपकी टिपण्णी हमारी सोच को नयी ऊर्जा प्रदान करती हैं.. लेखनी में हम आपको अपना वर्तमान लेखक-लेखिकाओं में आदर्श भी मानते हैं....!

Anil Kumar ने कहा…

बहुत-बहुत शुक्रिया सियारमण जी.. आप हमारे ब्लॉग पर आये.. अपनी महत्वपूर्ण अभिव्यक्ति प्रदान की.. बहुत-बहुत शुक्रिया ..

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत मार्मिक...

Anil Kumar ने कहा…

धनंयवाद कैलाश शर्मा जी..

GathaEditor Onlinegatha ने कहा…

Looking to publish Online Books, Ebook and paperback version, publish book with best
Publish Online Book with OnlineGatha